जिंदगी का सबसे हसीन पल

मेरे हो तो पुरुष विकल्प मिलेंगे बहुत मार्ग भटकाने के लिए
संकल्प तो एक ही काफी है मंजिल तक जाने के लिए

 हमने भी किसी से प्यार किया था
 कम नहीं बेशुमार किया था
जिंदगी बदल गई थी तब उसने कहा कि
पागल तो सच समझ बैठा मैंने तो मजाक किया था

प्यार हमने भी किया था उन्हें स्कूल के दिनों में
दिया था तब लेटर और जवाब आया किताब में छुप कर
कभी मुलाकात तो नहीं हुई क्योंकि कमबख्त किताब कभी हमने छुई  नहीं थी।


दिल पर क्या गुजरी वह अनजान क्या जाने
 प्यार किसे कहते हैं वह नादान क्या जाने
हवा के साथ उड़ गया घर इस परिंदे का
कैसा बना था घोसला वह तूफान क्या जाने


 हमारा अंदाज कुछ ऐसा है
 कि जब हम बोलते हैं तो बरस जाते हैं
 और जब हम चुप रहते हैं तो लोग तरस जाते हैं

 पत्ते गिर सकते हैं पेड़ नहीं
 सूरज डूब सकता है आसमान नहीं
 धरती सुख सकती है दरिया नहीं
 दुनिया सुधर सकती है पर आप नहीं


अनजान होना शर्म की बात नहीं है लेकिन
 सीखने की इच्छा ना होना शर्म की बात है

अगर कोई आपका दिल दुखाए तो उसका बुरा मत मानना क्योंकि यह कुदरत का नियम है कि जिस पेड़ के सबसे मीठे फल होते हैं उसी के सबसे ज्यादा पत्थर लगते हैं।

वादा ना करो अगर तुम निभा ना सको चाहो ना उसको जिसे तुम पा ना सको दोस्त तो दुनिया में बहुत होते हैं पर एक खास रखो जिसके बिना तुम मुस्कुरा ना सको।

नदी जब किनारा छोड़ देती है
राहे में चट्टान अथक तोड़ देती है
 बात छोटी सी अगर चुभ जाए दिल में तो
 जिंदगी के रास्तों को भी मोड़ देती है

नदी जब किनारा छोड़ देती है राहे में चट्टान तक तोड़ देती है बात छोटी सी अगर चुभ जाए दिल में तो जिंदगी के रास्तों को भी मोड़ देती है।

जिंदगी एक पल है
 जिसमें ने आज निकल है जी लो इसको इस तरह की
 जो भी आपसे मिले वह यही कहे
 बस यही मेरी जिंदगी का सबसे हसीन पल है

हर तलवार पर जाट की कहानी है
 तभी तो दुनिया जाट की दीवानी है
 मिट गए जाट को मिटाने वाले क्योंकि
दहकती आग में तपती जाट की जवानी है

 किसी का सरल स्वभाव उसकी कमजोरी नहीं होता है दुनिया में पानी से सरल कुछ भी नहीं है किंतु उसका तेज भाव बड़ी से बड़ी चट्टान के टुकड़े कर देता है।

क्यों कहते हो कि कुछ बेहतर नहीं होता सच यह है कि जैसा चाहो वैसा नहीं होता कोई तुम्हारा साथ ना दे तो गम ना कर खुद से बड़ा दुनिया में कोई हमसफ़र नहीं होता।

जब खामोश आंखो से बात होती है
 ऐसे ही मोहब्बत की शुरुआत होती है
 तुम्हारे ही ख्यालों में खोए रहते हैं
 पता नहीं कब दिन और कब रात होती है

No comments:

Post a Comment