RAजस्थान में स्टोंस विकास केंद्र की स्थापना

RAजस्थान में स्टोंस विकास केंद्र की स्थापना 1998 को जयपुर में की गई।
संगमरमर:-यह पत्थर कायांतरित या रुपान्तरित चट्टान है जो चुनने के पत्थर से बनता है संगमरमर के उत्पादन की दृष्टि से राजस्थान का देश में प्रथम स्थान है तथा राजस्थान मैं सर्वाधिक संगमरमर राजसमंद में जब की सबसे अच्छी किस्म का संगमरमर मकराना(नागौर) में मिलता है तथा जिससे ताजमहल बना है संगमरमर पत्रों में सर्वाधिक मूल्य अर्जित करता है।
ग्रेनाइट पत्थर:-यह आग्नेय चट्टान में मिलता है जो की कठोर होता है विश्व में यह सबसे महंगा पत्थर है राज्य में मुख्यतः ग्रेनाइट 56 की पहाड़ी सिवाना (बाड़मेर) से प्राप्त होता है जालौर को ग्रेनाइट सिटी कहते हैं राजस्थान के 23 जिलों में ग्रेनाइट पाया जाता है।
इमारती पत्थर:-इस पत्थर के उत्पादन में राज्य का देश में प्रथम स्थान है जबकि राज्य में जोधपुर का स्थान प्रथम है।
चूना पत्थर/लाइम स्टोन:-यह अवसादी चट्टानों से प्राप्त होता है तथा यह राज्य में सर्वाधिक तथा सर्वव्यापी खनिज है इसका उपयोग सीमेंट उद्योग में होता है तथा उत्पादक क्षेत्र-सोनू(जैसलमेर)।
मुल्तानी मिट्टी:-राजस्थान में भारत की 90% मुल्तानी मिट्टी पाई जाती है इसका उपयोग विरंजक के रूप में सौंदर्य प्रसादन के रूप में होता है।
बेन्टोमाइट:-यह पानी में भिगोने पर फूल जाती है इसका उपयोग वनस्पति तेल और खनिज तेल को साफ करने में होता है उत्पादक क्षेत्र- हाथी की ढाणी,गिरल (बाड़मेर) में है।
बादामी पत्थर जो कि जोधपुर में मिलता है।
सात रंग का संगमरमर-खान्दरी गांव (पाली) में है।
हरे रंग का संगमरमर जो के उदयपुर में पाया जाता है तथा गेरू पत्थर चित्तौड़गढ़ में पाया जाता है और कोटा स्टोन कोटा के अंदर पाया जाता है गुलाबी पत्थर जोकि भरतपुर में पाया जाता है तथा संगमरमर की मंडी किशनगढ़ में स्थित है तोता गुलाबी काला ग्रेनाइट बांदनवाड़ा अजमेर में पाया जाता है।

No comments:

Post a Comment