राजस्थान में शिक्षा के विकास की योजनाएं

राजस्थान में शिक्षा के विकास की योजनाएं एवं कार्यक्रम

* उत्कृष्ट विद्यालय योजना: 
राज्य के प्रारंभिक शिक्षा विभाग द्वारा वर्ष 2016 17 से प्रत्येक ग्राम पंचायत में एक पाठ में किया उच्च प्राथमिक विद्यालय का चयन कर उसे उत्कृष्ट विद्यालय के रूप में विकसित करने हेतु यह योजना प्रारंभ की गई है यह उत्कृष्ट विद्यालय ग्राम पंचायत के अन्य विद्यालय हेतु मार्गदर्शी विद्यालय एवं संदर्भ केंद्र का कार्य करेंगे तथा इन्हें सेंटर ऑफ एक्सीलेंस के रूप में विकसित किया जाएगा
* आंगनबाड़ी पाठशाला:
30 मार्च 2017 प्रदेश के सभी आंगनवाड़ी केंद्रों का नाम आंगनवाड़ी पाठशाला रखा गया है इनमें फ्री स्कूल वर्क बुक्स के माध्यम से प्रारंभिक बाल्यावस्था शिक्षा कार्यक्रम लागू किया गया है
* राष्ट्रीय आविष्कार अभियान:
यह भारत सरकार द्वारा प्रारंभिक शिक्षा स्तर पर सर्व शिक्षा अभियान के अंतर्गत वर्ष 2016 से 17 से प्रारंभ किया गया कार्यक्रम है जिसका उद्देश्य बच्चों को प्रौद्योगिकी अवलोकन द्वारा सीखने के अवसर उपलब्ध कराना यह उन्हें वैज्ञानिक अन्वेषण के अवसर सुलभ कराना है
* शगुन पोर्टल:
 केंद्र सरकार द्वारा राज्य एवं केंद्र शासित प्रदेशों में सर्व शिक्षा अभियान की विभिन्न योजनाओं किया कार्यक्रमों के क्रियान्वयन की प्रगति को मॉनिटर करने हेतु विकसित किया गया ऑनलाइन पोर्टल है
* शाला सिद्धि कार्यक्रम:
मानव संसाधन विकास मंत्रालय एवं न्यूपा के दिशा निर्देशों अनुसार शाला सिद्धि कार्यक्रम के अंतर्गत स्कूल मानक एवं मूल्यांकन के तहत प्रत्येक विद्यालय की अपने स्तर पर स्वयं मूल्यांकन करने की कार्य योजना बनाई गई है
* स्वच्छ भारत स्वच्छ विद्यालय:
इस कार्यक्रम के तहत सर्व शिक्षा अभियान राष्ट्रीय माध्यमिक शिक्षा अभियान एवं सार्वजनिक उपक्रम  के माध्यम से राज्य के सभी राजकीय विद्यालयों में शौचालय निर्माण करवाया गया है
* आदर्श विद्यालय योजना:
इस योजना की घोषणा बजट 2015 से 16 में की गई है माध्यमिक व उच्च माध्यमिक विद्यालयों में शैक्षिक गुणवत्ता हेतु आधारभूत सुविधा उपलब्ध कराने के लिए प्रत्येक ग्राम पंचायत में चरणबद्ध रूप से एक विद्यालय को आदर्श विद्यालय के रूप में विकसित किया जा रहा है यह विद्यालय अन्य विद्यालयों के लिए मेंटर एवं संदर्भ केंद्र के रूप में कार्य करेंगे योजना का जिला स्तर पर क्रियान्वयन जिला कलेक्टर की अध्यक्षता में गठित राष्ट्रीय माध्यमिक शिक्षा परिषद की जिला निष्पादन समिति द्वारा किया जा रहा है इन आदर्श विद्यालयों को सेंटर ऑफ एक्सीलेंस के रूप में विकसित किया जा रहा है
* मुख्यमंत्री हमारी बेटियां योजना:
मुख्यमंत्री हमारी बेटियां योजना सत्र 2015 से 16 से प्रारंभ की गई है योजना अंतर्गत राजकीय विद्यालयों में अध्ययनरत राजस्थान माध्यमिक शिक्षा बोर्ड की सेकेंडरी परीक्षा में प्रत्येक जिले में प्रथम एवं द्वितीय स्थान प्राप्त करने वाली दो मेधावी छात्रों को कक्षा 11 व 12 में पुस्तकें स्टेशनरी यूनिफॉर्म इत्यादि के लिए ₹15000 वार्षिक तथा स्नातक और स्नातकोत्तर में अध्ययन हेतु ₹25000 वार्षिक एकमुश्त सहायता दी जाएगी इसके अलावा कक्षा 11 व 12 में अध्ययन हेतु आवश्यक समस्त स्वरूप छात्रावास कोचिंग शुल्क हेतु अधिकतम रुपए एक लाख तक तथा कक्षा 12 के पश्चात स्कोर तक अध्ययन हेतु अधिकतम ₹200000 तक प्रतिवर्ष सहायता दी जाएगी 1 जून 2016 से इस योजना का दायरा बढ़ाया गया है अब दसवीं कक्षा की हर जिले की बीपीएल परिवार की टॉपर बेटी को भी इस योजना का लाभ मिलेगा
* सड़क सुरक्षा पाठ्यक्रम:
वर्ष 2015- 16 से सड़क सुरक्षा के प्रति बच्चों को जागरूक एवं संवेदनशील बनाने के लिए राज्य के विद्यालयों की कक्षा 6 से 10 तक के पाठ्यक्रम में सड़क सुरक्षा शिक्षा को सम्मानित किया गया है
* शाला दर्पण कार्यक्रम:
 शाला दर्पण गवर्नेंस से संबंधित एक सूचना तंत्र है जो राज्य के प्राथमिक शिक्षा के समस्त राजकीय विद्यालय विद्यार्थी एवं शिक्षकों से संबंधित जानकारी को कंप्यूटर में इंटरनेट के माध्यम से ऑनलाइन प्रदर्शित करता है राजकीय उच्च माध्यमिक या माध्यमिक विद्यालयों में एवं स्वामी विवेकानंद राजकीय मॉडल स्कूलों के प्रबंधन के सुदृढ़ीकरण हेतु शाला दर्पण पोर्टल प्रारंभ किया गया है
* पढ़ो परदेश योजना:
अल्पसंख्यक मंत्रालय की योजना जिसमें छात्रों को पढ़ाई के लिए मिलने वाले ₹2000000 तक का ब्याज केंद्र सरकार चुका आएगी योजना का लाभ स्नातकोत्तर पी एच डी रिसर्च व इसके समकक्ष पाठ्यक्रमों की पढ़ाई के लिए यह ले सकते हैं इसके लिए आवश्यक है कि-
अभिभावक की सालाना आय ₹600000 से अधिक ने हो
छात्र ने विदेश के शिक्षण संस्थान में दाखिला ले लिया हो
* बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ:
अभियान एवं पीसीपीएनडीटी एक्ट के क्रियान्वयन के जरिए राजस्थान राज्य समूचे देश मैं आदर्श के रूप में उभर कर सामने आया है
* बालिका शिक्षा प्रोत्साहन पुरस्कार:
यह योजना सत्र 2008 -09 में प्रारंभ की गई योजना अंतर्गत माध्यमिक शिक्षा बोर्ड द्वारा आयोजित सीनियर सेकेंडरी कला विज्ञान वाणिज्य एवं वरिष्ठ उपाध्याय परीक्षा में राजकीय अनुदानित विद्यालयों में अध्ययनरत 75% या अधिक अंक प्राप्त करने वाली पात्र बालिकाओं को ₹5000 की राशि एवं प्रमाण पत्र देकर पुरस्कृत किया जाता है
* गार्गी पुरस्कार:
वर्ष 1998 से प्रारंभ इस योजना में माध्यमिक शिक्षा बोर्ड अजमेर द्वारा आयोजित सेकेंडरी एवं प्रवेशिका परीक्षा में 75% या अधिक अंक प्राप्त करने वाली बालिकाओं को कक्षा 11 व 12 में नियमित अध्ययन रत रहने पर प्रतिवर्ष ₹3000 एवं प्रमाण पत्र देकर पुरस्कृत किया जाता है पुरस्कार हेतु प्रत्येक जिला मुख्यालय पर प्रतिवर्ष बसंत पंचमी को समारोह आयोजित किया जाता है सत्र 2015 -16 में यह समारोह पहली बार पंचायत समिति स्तर पर आयोजित किया गया पुरस्कार हेतु राशि निदेशक माध्यमिक शिक्षा बीकानेर द्वारा उपलब्ध कराए जाती है
* मिड डे मील योजना अंतर्गत उत्सव भोज के नाम से जनसहयोग वाली योजना को 2 सितंबर 2015 से लागू किया गया
* नागौर जिले में जिला कलेक्टर राजन विशाल द्वारा 22 जुलाई 2016 को बालिकाओं को उच्च शिक्षा प्रदान करने की लाडो रानी योजना प्रारंभ हुई
* राजस्थान का पहला पेट्रो इंजीनियरिंग कॉलेज बाड़मेर में खुलेगा
* देश का पहला आयुष विश्वविद्यालय जोधपुर में स्थापित होगा
* कन्या लोहडी  गंगानगर जिले में गरीब बच्चियों की उच्च शिक्षा की अनोखी पहल है
* मीना मंच:
9206 नोडल विद्यालयों एवं 200 केजीबीवी मैं कक्षा 6 से 8 तक अध्ययनरत बालिकाओं में सामाजिक मुद्दों के बारे में जागरूकता पैदा करने की दृष्टि से मीना मंच का गठन किया गया
* शारदे बालिका छात्रावास योजना:
शिक्षा की  दृष्टि से पिछड़े हुए 186 ब्लॉक्स में गुणवत्तापूर्ण माध्यमिक स्तर की शिक्षा की पहुंच बालिकाओं तक बनाने के लिए माध्यमिक कक्षाओं में अध्ययनरत बालिकाओं के आवास हेतु शारदे बालिका छात्रावास ओं की स्थापना की जा रही है इनमें छात्रों की क्षमता प्रति छात्रावास 100 का मानक निर्धारित है
* मुख्यमंत्री जन सहभागिता विद्यालय विकास योजना:
मुख्यमंत्री द्वारा इस योजना की घोषणा बजट 2016- 17 में की गई माध्यमिक शिक्षा के विद्यालयों में जन आधारभूत संरचनाओं के निर्माण के विकास हेतु जन सहयोग को बढ़ावा देने के लिए वर्ष 2016- 17 से मुख्यमंत्री जन सहभागिता विद्यालय विकास योजना प्रारंभ की गई है
* साइकिल वितरण योजना:
बालिका शिक्षा को बढ़ावा देने की दृष्टि से यह योजना 2007 -08 से संचालित है इसके तहत आठवीं कक्षा उत्तीर्ण करने के पश्चात राजकीय विद्यालय में 9 वीं कक्षा में प्रवेश लेने पर राज्य की प्रत्येक बालिकाओं को निशुल्क साइकिल वितरित की जाती है छात्राओं को साइकिल योजना के स्थान पर ट्रांसपोर्ट वाउचर का लाभ लेने का भी विकल्प है छात्राओं को साइकिल वितरण योजना में ट्रांसपोर्ट वाउचर योजना में से किसी एक योजना का ही लाभ दे होगा
* विद्यार्थी दुर्घटना बीमा योजना:
यह योजना वर्ष 2006-07 से लागू है राज्य सरकार के बीमा एवं प्रावधाई निधि विभाग द्वारा इस योजना का क्रियान्वयन किया जा रहा है अब इसकी बीमा राशि बढ़ाकर ₹300000 कर दी है योजना अंतर्गत कक्षा 9 से 12 के छात्र छात्राओं के लिए सामूहिक सुरक्षा दुर्घटना बीमा क्रम से 10 एवं ₹5 प्रीमियम के रूप में एकत्रित राशि तथा शेष राशि विभाग द्वारा राज्य बीमा विभाग को जमा करवाई जाती है बीमा राशि ₹100000 हैं
* राष्ट्रीय उच्चतर शिक्षा अभियान योजना:
भारत सरकार के मानव संसाधन मंत्रालय में राज्यों को वित्तीय सहायता प्रदान करने हेतु राष्ट्रीय उच्चतर शिक्षा अभियान योजना बनाई है इस योजना का उद्देश्य राज्यों के उच्च शिक्षण संस्थाओं में एक्सिस इक्विटी तथा क्वालिटी मैं गुणात्मक अभिवृत्ति करना है इस योजना हेतु राजस्थान राज्य उच्च शिक्षा परिषद का कार्यात्मक आदेश दिनांक 8 जुलाई 2015 के तहत दिनांक 11 जनवरी 2016 को बंद हो गया है
* साक्षर भारत मिशन:
प्रोड शिक्षा को बढ़ावा देने हेतु केंद्र व राज्य को 60:40 की भागीदारी से 8 सितंबर 2009 को केंद्र द्वारा प्रारंभ योजना राज्य में इसकी शुरुआत 14 दिसंबर 2009 से की गई यह कार्यक्रम केवल ग्रामीण क्षेत्रों में ही संचालित किया जा रहा है
* आपकी बेटी योजना:
बालिका शिक्षा फाउंडेशन द्वारा वर्ष 2004 -05से प्रारंभ योजना जिसमें निर्धन प्रतिभावन बालिकाओं को जिनके माता-पिता में से दोनों या किसी एक का निधन हो गया हो उसको कक्षा एक से आठवीं तक 1100 /-9वीं से 12वीं कक्षा में अध्ययनरत बालिकाओं को प्रति वर्ष 1500रुपए तक की आर्थिक सहायता दी जाएगी

No comments:

Post a Comment