हनुमान बेनीवाल

नाम= हनुमान बेनीवाल
पिता= स्वर्ग श्री रामदेव जी बेनीवाल
माता =श्रीमती मोहिनी देवी
जन्म दिनांक =2 मार्च 1972
शिक्षा= एलएलबी को ऑपरेटिव में डिप्लोमा राजस्थान विश्वविद्यालय से
पत्नी का नाम =श्रीमती कनिका बेनीवाल
संतान=
(1) पुत्री दिया बेनीवाल
(2) पुत्र आशुतोष बेनीवाल
*ननिहाल =पिडेल गोत्र जाट जलगांव, मूंडवा
*ससुराल =श्री कृष्ण जी गोदारा सरदारपुरा जीवन (श्री गंगानगर)
*राजनीतिक विवरण
*1994 में राजस्थान कॉलेज के अध्यक्ष बने
*1995 में दोबारा राजस्थान कॉलेज के अध्यक्ष बने
*1996 में राजस्थान विधि कॉलेज के अध्यक्ष बने
*1997 में राजस्थान विश्वविद्यालय के अध्यक्ष बने
*2003 में मूंडवा विधानसभा से निर्दलीय उम्मीदवार के रूप में चुनाव लड़े मगर 2000 वोटों से हार गए
*2008 में बीजेपी के टिकट पर नवगठित विधानसभा खीवसर से चुनाव लड़ा और नागौर जिले की सभी सीटों पर सबसे बड़ी जीत हासिल की
*2013 में निर्दलीय उम्मीदवार के रूप में खीवसर विधानसभा सीट से अपने निकटतम प्रतिद्वंदी बसपा के दुर्ग सिंह चौहान को 24600 वोटों से हराकर दूसरी बार जीत हासिल की
*आपके पिता चौधरी रामदेव जी बेनीवाल 3 बार मूंडवा विधानसभा के अध्यक्ष रहे
*मूल निवास =बरणगांव जिला नागौर
*वर्तमान निवास= b7 एमएलए क्वार्टर जालूपुरा थाने के पास जयपुर
*ईमेल -mlahnumanbeniwal@gmail.com
* आप राजस्थान नहीं अपितु पूरे देश में आपको किसान को उनके सच्चे साथी हैं हक के लिए लड़ने वाले अन्याय के खिलाफ अपनी दबंग आवाज आने के उपचार से झंडा गाड़ने वाले से जाना चाहते हैं
*आप की विशेषता के कारण आज आप राजस्थान प्रदेश के युवाओं की पहली पसंद बन चुके हो एवं आप की लोकप्रियता दिन प्रतिदिन बढ़ती जा रही है
*आप की बढ़ती लोकप्रियता से चलकर कुछ समाज कंटको ने 23 सितंबर 2015 को आप पर अचानक जानलेवा हमला कर दिया ईश्वर की कृपा से सकुशल बच गए आप की लोकप्रियता एवं दिल में बसने वालों  का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि आप पर हुए हमले के विरोध में समूचे राजस्थान में 200 से अधिक जगहों पर प्रदर्शन हुए राजस्थान यूनिवर्सिटी में भी प्रदर्शन हुआ पुलिस ने दोषियों पर लाठियां बरसाई जिसमें घायल हुए आज भी जयपुर के थाने मैं आपके पसंद है
* इसके अलावा भी अनेक बातें हैं जिनको लिखते लिखते शायद गुजर जाए इतना ही कहना चाहूंगा
*

आप जैसा नेता आज तक इस प्रदेश में नहीं हुआ राजस्थान की जनता को आपसे बहुत उम्मीद है ईश्वर आपको सब कुशल रखे

Post a Comment

0 Comments